By Amar Ujala – करीब 20 प्रतिशत उद्योग मालिकों ने ही अपनी इकाइयां शुरु करने के लिए आवेदन किया
गुरुग्राम। जिले में करीब नौ हजार औद्योगिक इकाई हैं और उनमें से मात्र दो हजार इकाइयों को चालू करने के लिए उद्यमियों ने आवेदन किया है। प्रशासन ने गत एक सप्ताह दो हजार में से केवल 481 औद्योगिक इकाइयों को चालू करने की स्वीकृति दी है, लेकिन कर्मचारियों की कमी और प्रशासन की शर्तें आड़े आने के कारण अभी तक सौ औद्योगिक इकाइयां ही चालू हो पाई हैं।

जिले में अभी करीब सौ उद्यमियों ने स्वीकृति मिलने के बाद अपनी इकाई नहीं चलाने का निर्णय लिया है, जबकि मारुति और अन्य इकाइयों में अभी काम शुरू नहीं हुआ है। इन इकाइयों में कार्य शुरू करने से पहले प्रशासन की शर्तों को पूरा करने की कवायद आरंभ हुई है। जिले में गारमेंटस, गत्ते के डिब्बे बनाने, गाड़ियों के शीशे बनानेे, कंप्यूटर व लैपटॉप बनाने, इंक, पैन, डायरी आदि सामान बनाने वाली इकाइयां चालू हुई हैं।
इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट एसोसिएशन के चेयरमैन दीपक मैनी का कहना है कि औद्योगिक इकाई चालू करने के संबंध में प्रशासन ने कड़ी शर्तें तय की हैं। यह शर्ते सभी उद्यमियों के लिए पूरा करना संभव नहीं है। एक भी शर्त पूरी नहीं होने की स्थिति में वे अपनी इकाई नहीं चला सकते। इसके अलावा शर्त पूरी नहीं होने पर कानूनी कार्रवाई की तलवार लटकी है। इस कारण अधिकतर उद्यमियों ने अपनी इकाई चालू करने के लिए आवेदन नहीं किया।

गुड़गांव इंडस्ट्रियल एसोसिएशन के सचिव मनोज जैन के अनुसार औद्योगिक इकाइयों में कार्य करने वाले ज्यादातर श्रमिक अपने राज्य में चले गए है। वहीं यहां रुके ज्यादातर मजदूर कई किलोमीटर दूर रहते हैं। एक ओर उनके पास अपने वाहन नहीं और सार्वजनिक परिवहन सेवा बंद है। इस कारण काम पर आना-जाना आसान नहीं है।

For more details, please visit http://gestyy.com/e00hOY

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.