By Amar Ujala – नगर निगम के पास अब नया कचरा डालने के लिए नहीं है जगह

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।
*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

गुरुग्राम। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के आदेश के बाद से नगर निगम के सामने नया कचरा डालने की चुनौती बन गई है। निगम ने पहले गांव बसई में नया कचरा डालने के लिए प्लांट बनाने की योजना बनाई। इसके बाद फर्रुखनगर में गौचर भूमि पर कचरा डालने की योजना बनाई, लेकिन दोनों ही जगहों पर स्थानीय लोगों के विरोध के कारण कचरा निस्तारण का अस्थाई प्लांट स्थापित नहीं हो सका।

अब नगर निगम शहर के बाहर ही तीसरी जगह की तलाश में जुटा है। वहीं, दूसरी ओर एनजीटी की मनाही के बाद भी नगर निगम बंधवाड़ी प्लांट में कचरा डाल रहा है। दरअसल, बंधवाड़ी प्लांट में कचरे के बड़े-बड़े पहाड़ होने के कारण यह मामला एनजीटी में विचाराधीन है। एनजीटी ने 15 फरवरी से जब तक कचरे के पहाड़ समाप्त नहीं हो जाते तब तक बंधवाड़ी प्लांट में नया कचरा नहीं डालने के आदेश जारी किए हुए हैं। बावजूद इसके नगर निगम लगातार बंधवाड़ी प्लांट में नया कचरा पहुंच रहा है। इस कारण अब जितना कचरा कंपनी निस्तारण कर रही है उतना ही नया कचरा प्लांट में पहुंच रहा है।
ईको ग्रीन कंपनी ने बंधवाड़ी प्लांट में कचरा का निस्तारण करने के लिए आठ ट्रोमल मशीनें लगा दी है। एक मशीन एक दिन में करीब 300 टन कचरे का निस्तारण कर रही है। पांच मशीनें पहले ही लगी हुई है।

कोट दोनों जगहों पर विरोध के बाद अब निजी जमीन की तलाश की जा रही है। जगह मिलते ही नया कचरा एकत्रित नहीं किया जाएगा, वहां सिर्फ रोजाना आ रहे नए कचरे का निस्तारण किया जाएगा। इससे लोगों को कोई परेशानी नहीं होगी।- महावीर प्रसाद, अतिरिक्त निगमायुक्त, नगर निगम, गुरुग्राम।

For more details, please visit http://gestyy.com/eqGPl3

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.